रहनुमाओ की शक्ल

Author: kapil sharma / Labels:

रहनुमाओ की शक्ल लिए यहाँ  पग पग शैतान दिखे 
बस्तियों जब भी तलाशी हमने बस सुने शमशान दिखे 
इन्साफ पसंद होते हैं, मुल्क में मेरे काजी सभी,
जब भी तख्तों से मुजरिम के ऊँचे इन्हें मकान दिखे
अजब लुटेरों की जात आबाद हैं अपने साथ -
होठों पे जुबां फीर जाती गर कहीं कोई इंसान दिखे
वक़्त बदलें, दिन जमुरियत के भी सुहाने आयेंगे
शर्त बस इतनी शेखजी को कुर्सी से पहले ईमान दिखे

8 comments:

Aditya said...

Kamaal.. ekdum kamaal.. :)

apke blog par follow karne ka link nahi dhoondh pa raha hun.. zara raah dikhaaiye.. :)

NUKTAA said...

Shukriyaa Aditya Bhai

Aapke sujhav par Follower Widget Enable kar diya hai

पुरुषोत्तम पाण्डेय said...

वाह.आज के समाज की सही तस्वीर खींची है.

NUKTAA said...

pandeyji, aapne koshish ko saraha iske liye aabhari hun

Shashiprakash Saini said...

बहुत अच्छी रचना है
बधाई स्वीकारे

NUKTAA said...

Shashiji, Behad shukriya

dr.mahendrag said...

rahnumaon ki shakal liye yahan pag pag shaitan dikhe
SACMUCH NUKTAAJI, AAJ ENSAN DOODHNA BADA MUSHKIL HAI-SAHI BAYAN KIYA HAI AAPNE.

NUKTAA said...

Dr. Saab, Bahot bahot dhanywaad

अंतर्मन