मोहे प्यासों छोड़ गयो

Author: kapil sharma / Labels:

प्यासी अखियाँ,
प्यासों सावन,
प्यासें मेलें,
प्यासें मधुबन,
प्यासें पगले मन की अनमन,
प्यासें मो संग मोरा साजन,
प्यासी दीप संग पतंग की उलझन,
दीप पतंगा पी गयो री
मोहे प्यासों छोड़ गयो री
कदम्ब तले कान्हो बेदर्दी

0 comments:

अंतर्मन