मसरुफी

Author: kapil sharma / Labels:

मसरुफी तूने,

इस तरह लाचार कर दिया

इश्क के नाम,

एक दिन कर ,

सारी ज़िन्दगी को

मोहब्बत से

फारिग कर दिया

इक बाँवरा सा इंसा था

Author: kapil sharma / Labels:

शौहरत तेरे,
अंदाज़-ए-सुखन की
तुझको हो मुबारक शायर,
मुझे बस इतनी दुआ दो,
के हयात यूँ याद रख ले,
इक बाँवरा सा इंसा था,
बाँवरी बातें करता था

रात ने हैं रख ली गिरवी मुझसे

Author: kapil sharma / Labels:

ऐसे दौर -ए - खस्ता हाल ने,
सवाल ए चैनो सुकूं को दिया जवाब
रात ने हैं रख ली गिरवी मुझसे,
मेरी नींदें, चाँद और सारे ख्वाब

वो बनकर अब्र आये बरसाने मुझपर
अपनी रूह का आब औ' ताब
हम बदकिस्मत सूखे रह गए,
ले आँखों में अश्क़ हाथों में शराब

बस इक डर के वक़्त के थपेड़े,
मुरझा न दे गुलदस्ता ए हयात
चुन चुन कर रख लिए है उसने,
सब के सब कागज़ के गुलाब

पुर ख्व़ाब निगाहें

Author: kapil sharma / Labels:

पुर ख्व़ाब निगाहें, दिल अरमानों से लबरेज
हज़ार हसरतों भरा आसमान हैं, हश्र अब उड़ानें हैं,
बस  गर साथ दे जाये हौसला अपना
***
सौ इल्जाम, वाइज़ तेरे, मुझको कबुल हैं
यकीं मुझको पाक़तर दामन भी हैं तेरा,
मगर फिर भी, झाँक कभी तो गिरेबाँ अपना
***

अंतर्मन