तसव्वुर

Author: Kapil Sharma /

यूँ तसव्वुर तेरा,
पूरा भर देता है,
वजूद मेरा,
तेरे दीद की तमन्ना
मेरे दिल को
क्योकर हो?

0 comments:

अंतर्मन