रहगुजर

Author: kapil sharma / Labels:

इक तन्हा सफ़र...
इक मंजिल
दूर इस कदर...
सांसें मद्धम, पड़ती कम
कम होती नहीं रहगुजर...

0 comments:

अंतर्मन